Mandukasana in Hindi


Mandukasana

दोस्तों, आज हम आपको बताने वाले हैं Mandukasana के बारे में| Mandukasana को करने से आपको बहुत अधिक लाभ होगा| चलिए शुरू करते हैं|

क्या होता है Mandukasana?

दोस्तों, जैसा की आपको नाम से ही पता चल गया होगा| मंडूक आसन दो शब्दों के मेल से बना है| मंडूक का अर्थ है मेंढक तथा आसन का अर्थ है योग का अभ्यास करना| जब आप इस आसान का अभ्यास करते हैं तो आपका शरीर मेंढक के आकार का लगने लगता है|

इसलिए इसे मंडूकासन कहते हैं| आप इसे frog pose भी कह दें तो गलत नहीं होगा| अगर आप पेट से संबंधित किसी भी समस्या से परेशान हैं तो आप मंडूकासन जरूर करें| आपको काफी फर्क महसूस होगा|

ऐसे करें मंडूक आसन

Friends, अगर आप मंडूक आसन करते हैं तो आपको हमारे द्वारा बताई गई विधि का पालन करना पड़ेगा| क्यूंकी वैसे तो Mandukasana करने से आपको काफी ज्यादा फायदा पहुँचता है लेकिन ये फायदे आपको तभी मिल पाएंगे जब आप इसको सही ढंग से करेंगे| आपको बता दें, अगर आपने गलत ढंग से Mandukasana को किया तो फिर आपको इसके नुकसान भी झेलने पड़ सकते हैं|

मंडूकासन करने की विधि

  • सबसे पहले आपको वज्रासन की मुद्रा में बैठ जाना है|
  • इसके बाद आप अपनी मुट्ठी को बांधकर अपनी नाभि के पास ले जाने का प्रयास करें|
  • इसके बाद आपको अपनी दोनों हाथों की मुठ्ठी को जांघ तथा नाभी के पास रखा है| लेकिन आपको इस बात का भी ख़ास ख़याल रखना है की मुट्ठी खड़ी हो एवं आपकी उंगलियां पेट की तरफ हो|
  • अब सांस छोड़ते हुए आगे की ओर झुक जाना है| अपनी छाती को इस प्रकार से नीचे लाएं कि आपकी जाँघों पर आपकी छाती टिकी हो| आपको तब तक आगे झुकना है जबतक की आपकी नाभी पर दबाव न बनने लगे|
  • याद रखें की आपको इस दौरान अपनी गरदन झुकानी नहीं है बल्कि उठाकर रखनी है जैसे मेंढ़क अपनी गर्दन उठाकर चलता है ठीक उसी प्रकार आपको भी करना है| अपनी आंखों को सामने की ओर रखें|
  • इसके पश्चात आपको सांस धीरे धीरे लेनी और छोड़नी है| अपनी इस स्थिति को आप काफी देर तक बनाए रखें| जब लगने लगे की अब आपसे नहीं हो पा रहा है तो आप सीधा बैठ जाएं| आपको सांस लेते हुए सामान्य अवस्था में आना है| इस तरह आप एक चक्र पूरा कर लेंगे| अगर आपने अभी अभी Mandukasana करना शुरू किया है तो आप चार बार से ज्यादा न करें|

Mandukasana करने के फायदे

  • दोस्तों, अगर आप Mandukasana का अभ्यास रोजाना करेंगे तो आप अपने बढ़ते हुए वजन से बहुत ही जल्द छुटकारा पा सकते हैं|
  • अगर आपको अपने work या life से जुड़ा किसी भी प्रकार का तनाव रहता है तो आप Mandukasana जरूर करें| इससे आपका stress दूर हो जाता है और आप relax महसूस करते हैं|
  • जो लोग कमजोर पाचन तंत्र के शिकार हैं| जिन्हें खाना सही ढंग से पच नहीं पाता है उन लोगों को भी daily मंडूकासन का अभ्यास करना चाहिए| इससे उनकी ये परेशानी दूर हो जाती है और उनका पाचन तंत्र मजबूत हो जाता है|
  • जैसा की आप सब जानते ही हैं, diabetes एक बहुत ही गंभीर बीमारी है| इसके रोगी को हर तरह की परेशानी का सामना करना पड़ता है| अगर आप भी diabetes के शिकार हो गए हैं और महंगी से महंगी दवा भी असर नहीं कर रही है तो एक बार मंडूकासन को आज़माकर देखें|
  • डायबिटीज के रोगियों के लिए तो Mandukasana किसी वरदान से कम नहीं है| इससे शरीर में इन्सुलिन की मात्रा बढ़ती है और patient का sugar level भी control में रहता है|
  • जो लोग पेट में गैस अथवा जलन की समस्या से जूझ रहे हैं उनको चाहिए की वो रोज़ मंडूकासन करें| इससे उनकी ये problem बहुत ही जल्द दूर हो जाएगी|
  • दोस्तों, अगर आपका लीवर खराब है तो आपको बहुत सी बीमारियां एक साथ घेर लेती हैं| लीवर खराब होने का सबसे बड़ा कारन है धूम्रपान या किसी भी प्रकार का नशा करना| ऐस में आपको चाहिए की आप मंडूकासन का अभ्यास करें| इससे आपके लिवर को मजबूती मिलती है|

Mandukasana करने से पहले सावधानियां?

  • हैपेरिसिडिटी वालों को यह आसन नहीं करनी चाहिए।
  • मंडूकासन करते समय आपको कुछ चीजों की ख्याल रखनी चाहिए जो निम्नलिखित है।
  • पेट में अगर कोई विकार या ऑपरेशन हुआ हो तो इस आसन को न करें।
  • अगर आपको पीठ में दर्द हो तो इस आसन को करने से परहेज करना चाहिए।
  • नाभि की समस्या होने पर भी इस को न करें।

मंडूकासन करने का सही समय?

दोस्तों, अगर आप मंडूकासन का लाभ उठाना चाहते हैं तो बेहतर यही है की आप इसका सही समय पर अभ्यास करें| इस आसन को करने का सही समय है की आप इसे दिन के समय करें| इससे आपको सबसे अधिक फायदा पहुंचेगा|

एक बात का आपको ख़ास ख़याल रखना है दोस्तों, की मंडूकासन को करने के लिए एक शर्त ये है की आप इसे खाली पेट ही करें| Experts का मानना है की मंडूकासन को कभी भी कुछ खाने-पीने के बाद बिल्कुल नहीं करना चाहिए|

अगर आप सुबह के समय Mandukasana नहीं कर पा रहे हैं तो आप इसे शाम के समय भी कर सकते हैं| दोनों ही समय में Mandukasana करने से आपको इसके अद्भुत लाभ देखने को मिलेंगे| जब भी आप Mandukasana करने वाले हों तो ध्यान रखें की आपको Mandukasana करने के तीन से चार घंटे पहले कुछ भी नहीं खाना है|

महिलाओं के लिए मंडूकासन के फायदे

  • जिन महिलाओं की body में किन्ही कारणों से hormonal changes होते रहते हैं, उन्हें तो Mandukasana का अभ्यास regularly करना चाहिए|
  • पॉलिसिस्टिक ओवरी डिजीज या PCOD की समस्या से भी मंडूकासन निजात दिलाता है|
  • अगर periods irregular हो रहे हैं और इसकी वजह से महिलाओं को stress हो तो उसे भी दूर करने में मंडूकासन काफी ज्यादा लाभदायक है|

निष्कर्ष (Conclusion)

दोस्तों, आज हमने आपको अपने इस article में बताया की Mandukasana क्या है? इसका ये नाम क्यों पड़ा? मंडूकासन करने की विधि क्या है ये भी आपको हमने जानकारी दे दी है| हमने आपको ये भी बताया की कब्ज़ की समस्या से निजात पाने के लिए आपको मंडूक आसन का निरंतर अभ्यास करना होगा| लेकिन मंडूकासन करने का फायदा तभी है जब आप मंडूकासन करने की विधि जानते हों|

इसलिए हमने इस article के माध्यम से आपको मंडूकासन करने की विधि के बारे में भी बता दिया है| हमने आपको Mandukasana In Hindi में इसलिए बताया जिससे आपको आसानी से समझ में आ जाए की Mandukasana कैसे करते हैं और इसके कौन कौन से लाभ हो सकते हैं? आपसे फिर मिलेंगे बहुत जल्द एक नई जानकारी के साथ|

ये आर्टिकल्स भी जरूर पढ़े –

गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है
गिलोय की लकड़ी के फायदे
surdas ka jivan parichay
mi kaha ki company hai
प्रधानमंत्री आवास योजना 2021

There is no more story.
Next The Difference Between Jail and Prison