मखानो के विभिन्न प्रकार और मखाने के फायदे और नुकसान |Makhane Khane Ke Fayde Aur Nuksaan


मखाने के फायदे और नुकसान

नमस्कार दोस्तों। कैसे हैं आप सब। दोस्तों, आज हम आपको बताने वाले हैं मखाने के फायदे और नुकसान के बारे में। शायद आप में से बहुत कम लोग ये जानते होंगे कि मखाने दो प्रकार के होते हैं। पहला जिसे हम फूल मखाना या कमल का बीज भी कह देते हैं। दूसरा प्रकार है ताल मखाना। दोस्तों, किसी भी चीज़ के दो पहलू होते ही हैं। फायदा और नुकसान।

तो आज हम आपको मखाना खाने के फायदे और नुकसान के बारे में बताने जा रहे हैं। मखाने के फायदे और नुकसान के बारे में जानने के लिए हमारा Article शुरू से अंत तक पढ़ें। यकीन मानिए इसमें आपको मखाने के फायदे और नुकसान से जुड़ी हर जानकारी मिलेगी।

दोस्तों, आप ने अकसर देखा होगा कि जब भी घर पर कोई मेहमान आता है तो सबसे पहले उसे Dry Fruits serve किए जाते हैं। उसके बाद ही खाने-पीने की कोई आइटम serve की जाती हैै। जब घर पर कोई व्रत रखता है तो ये तो तय है कि वो फलाहार बनाएगा।

फलाहार में अगर मखाना न हो तो मजा किरकिरा हो जाता है। जब कोई Dry Fruits के लड्डू बनाता है तो उसमें भी मखाना अपनी खास जगह बना ही लेता है। Kheer में अगर न पड़े तो मजा नहीं आता।

क्या आप जानते हैं दोस्तों, कि India में सबसे ज़्यादा मखाने का उत्पादन कहां पर होता है? अगर नहीं मालूम है तो चलिए कोई नहीं, हम बता देते हैं। भारत में सबसे ज़्यादा मखाने का उत्पादन होता है उत्तर बिहार में।

यहां के दरभंगा, मधुबनी और इसके आस-पास के इलाके में सबसे ज़्यादा मखाना उगाया जाता है। मखाना खाना हमारी सेहत के लिए सबसे ज़्यादा Beneficial  है। चलिए आपको मखाने की दिलचस्प बात बताते हैं।

मखाना तालाब या झील जैसी दलदली जगहों पर उगाया जाता है। यही कारण है कि मखाना पूरी तरह गोल  होता है। क्या आप जानते हैं मखाने को किन नामों से जाना जाता है। इसे हर भाषा में अलग-अलग नामों से बुलाया जाता है। 

मखाने को अंग्रेजी में Fox Nut, Lotus Seeds और Gorgon Nut कहते हैं। कई जगह इसे मखाणा भी कह दिया जाता है। कुछ लोग इसे Frikly Water Lily के नाम से भी जानते हैं। मखाना Popcorn से हलका होता है लेकिन मखाना के Nutritional Value, Popcorn से ज़्यादा होते हैं। जितने नामों से मखाने को जाना जाता है उससे कहीं ज़्यादा इसके फायदे हैं। सबसे पहले जान लेते हैं कि मखाने की उत्पत्ति कहां से हुई।

कहां से हुई मखाने की उत्पत्ति:

Arc Butani एक चेन है जो Plant Remains को Study करती है। इस research study के अनुसार Ureal Ferox के leaves Neolithic Period में सबसे ज़्यादा collect किए जाने वाले wild food थे। इसका सबसे पहले record किया गया उपयोग 75000 साल पुराना है। इसके बाद चाइनीज़ लोगों ने इस Plant को काफी सदियों तक उगाया है। जिस कारण मखाना Ancient time में Asia का बहुत ही पुराना food रहा है।

चाइनीज़ और आयुर्विज्ञान में मखाना सबसे ज़्यादा महत्वपूर्ण है। जैसे-जैसे लोगों को इसके स्वास्थ्य में लाभदायक होने का पता चलने लगा वैसे-वैसे इसकी उत्पत्ति बढ़ने लगी। मखाना पाने के लिए सबसे पहले ureal ferox के पत्तों को grow करना पड़ता है।

यह plant उगाने के लिए ऐसा climate चाहिए जहां climate hot, summer or cold winter जैसा वेदर हो। इसीलिए साल 1990 से भारत के Bihar क्षेत्र में इसका Cultivation (Kheti) शुरू हुआ। एक research में पता चला है कि बिहार के 96 हजार एकड़ जमीन पर मखाना का Cultivation किया जाताा है।

कुछ मखाना के बनने में बहुत ही बड़ी और मुश्किल process करनी पड़ती है। मखाना की processing के लिए कोई latest technology नहीं है। इसी कारण लोग आज भी traditional तरीके से मखाने के बीजों को process करते हैं।

अब आपको बताते हैं इसे खाने के सही तरीके के बारे में।

एसिडिटी से बचाव के उपाय जाने।

मखाना खाने का सही तरीका : (Right way to eat fox nut)

मखाने को आप या तो पका कर खा सकते हैं या फिर उसे आप कच्चा भी खा सकते हैं। आप चाहें तो इसमें मक्खन, शहद या नमक डालकर भी खा सकते हैं। अगर आप मखाने को घी में भूनकर खाएंगे तो आप इसका स्वाद कई दिनों तक नहीं भूल पाएंगे। दोस्तों, आप kheer या फिर दलिया में भी मखाना डालकर खा सकते हैं। मखाने का सेवन सीमित मात्रा में salad के साथ भी किया जा सकता है। आप मखाने को चूर्ण बनाकर भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

ताल मखाना खाने के फायदे :

दोस्तों, ताल मखाना को ही कोकिलाक्ष भी कहा जाता है। इसका आयुर्वेद में बहुत ही महत्वपूर्ण स्थान है। आयुर्वेद के जानकारों के लिए ये एक जाना पहचाना नाम है। आप में से शायद बहुत कम लोग जानते होंगे कि ताल मखाना भी कुछ होता है। इसका इस्तेमाल पुराने जमाने से ही किया जा रहा है। आयुर्वेद विज्ञान में कई प्रकार की दवाओं को बनाने के लिए कोकिलाक्ष यानी ताल मखाना का प्रयोग किया जाता है। आइए जानते हैं इसके फायदे।

  • दोस्तों, ताल मखाना खाने का सबसे पहला फायदा है कि अगर मौसम में बदलाव या किन्हीं कारणों से आपको खांसी हो रही है तो आपको तुरंत ताल मखाना खाना चाहिए। आपको करना यह है कि कोकिलाक्ष का चूर्ण बनाकर उसमें एक से दो ग्राम शहद मिलाकर इसका इस्तेमाल करें। इससे आपको खांसी में बहुत आराम मिलेगा।
  • जिन लोगों को श्वास संबंधी कोई परेशानी है उन लोगो के लिए ताल मखाना रामबाण की तरह ही काम करता है। इसके लिए आपको 2 से 4 gram ताल मखाने का पाउडर लेना है। अब इसमें शहद और घी मिला कर अच्छे से उसे mix करके खाना है। इसके बाद आपकी सांस लेने की समस्या दूर हो जाएगी और आप आसानी से सांस ले सकेंगे।
  • ताल मखाना दस्त या अतिसार को रोकने में भी काफी ज़्यादा मददगार साबित होता है। अगर ज़्यादा मसालेदार खाना, पैकेज फूड या बाहर का खाना खा लेने की वजह से दस्त हो गए हैं तो आप ताल मखाने का प्रयोग करें। इसके लिए दो से चार Gram ताल मखाना के चूर्ण को दही के साथ मिलाकर खाने से दस्त दूर हो जाएंगे।
  • अगर आपको पीलिया है और आप इसके लक्षणों से परेशान हैं तो देर न करें। तुरंत आप ताल मखाने का सेवन करें। इसके लिए आपको ताल मखाने का काढ़ा बनाकर आपको दिन में आधा से एक गिलास इस काढ़े को पीना है। आप देखेंगे कि 10 से 15 दिनों में पीलिया गायब हो जाएगा।
  • Thyroid और Diabetes को control करने में भी ताल मखाना मदद करता है। आजकल की भागदौड़ और तनाव भरी ज़िन्दगी ऐसी हो गई है कि न तो खाने का कोई तरीका रह गया है और न ही सोने का। यही कारण है कि लोगों को थायराॅयड और डाइबिटीज़ की समस्या हो जाती है।
  • दोस्तों, ताल मखाना के बीजों का काढ़ा बनाकर हर रोज़ एक गिलास काढ़ा उसमें मिश्री मिलाकर पीने से आपको काफी ज़्यादा फायदा मिलेगा। इसके अलावा आप ताल मखाना के चूर्ण में बला, गंगरेन और गोखरू चूर्ण मिलाकर रख लें। दो से चार ग्राम इस पाउडर को मिश्री के साथ खाने से आपको Thyroid और Diabetes में बहुत ज़्यादा सुधार मिलेगा।

    मखाना खाने के फायदे : (Benefits of Fox Nuts)

Makhane khane ke fayde
  • दोस्तों, मखाने खाने का सबसे पहला फायदा है कि इससे आपको काफी मात्रा में पोषक तत्व मिल जाएंगे जो हमारी सेहत के लिए जरूरी हैं। मखाने में भरपूर मात्रा में magnesium, Fiber और potassium पाया जाता है। इन सभी तत्वों की मदद से आप फिट रह सकते हैं।
  • आज लोगों की जीवनशैली ऐसी हो गई है कि वो बिलकुल भी अपनी सेहत की ओर ध्यान नहीं दे पा रहे हैं। लोग काफी ज़्यादा तनाव में रहने लगे हैं। इसका सीधा असर उन लोगों के married life पर पड़ता है। पुरुषों में नपुंसकता की समस्या का ये मुख्य कारण है। इससे बचने के लिए आप रोजाना मखाना का सेवन करें।
  • कान के दर्द को दूर करने में भी मखाना खाना लाभदायक हो सकता है। जिन लोगों को बहुत ज़्यादा कान में दर्द होता है वो मखाने का प्रयोग करके इससे तुरंत छुटकारा पा सकते हैं। इसके लिए आप मखाने के बीजों को पानी में उबाल लें। फिर इसका काढ़ा तैयार कर लें। रोजाना तीन बूंद इसकी कान में डालें। इससे आपको राहत मिलेगी।
  • शुगर बेहद खतरनाक बीमारी है। इससे हर साल लाखों लोगों की जान चली जाती है। इससे निजात पाने के लिए आप मखाने का इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • दोस्तों, बहुत से ऐसे लोग हैं जिन्हें यह लगता है कि केवल pregnancy में ही महिलाओं को दर्द होता है। लेकिन उन्हें प्रसव के बाद भी काफी दर्द होता है। इससे बचने के लिए महिलाओं को मखाने के 10 से 15 पत्तों को पानी में डालकर उसका काढ़ा बनाकर लगातार सेवन करना चाहिए। ऐसा करने से प्रसव के बाद होने वाली पीड़ा से आराम मिल जाएगा।
  • दोस्तों, गठिया की समस्या आज बहुत ही common हो गया है। इस कारण हाथ और पैर के जोड़ों में भयंकर और असहनीय दर्द होने लगता है। इससे बचाव के लिए मखाने के पत्तों को पीस कर उस जगह लगाएं जहां पर दर्द हो रहा है। आप देखेंगे कि केवल 10 से 15 दिनों के अंदर ही आपको दर्द से राहत मिल जाएगी।
  • जब हमारे शरीर में गर्मी होने लगती है तो उससे भी काफी सारी बीमारियां हो जाती है। हमें छाले की समस्या होने लगती है, दस्त लग सकते हैं। इसी गर्मी को दूर करने के लिए मखाना चमत्कारी सिद्ध होता है। क्योंकि मखाने की तासीर ठंडी होती है। इस कारण यह हमारे शरीर को ठंडक पहुंचाता है।
  • दोस्तों, आप में से ऐसे बहुत से लोग होंगे जिनको शरीर के किसी न किसी भाग में किन्हीं कारण वश जलन की समस्या होगी। ऐसे लोगों को चाहिए कि वो एक गिलास गर्म दूध में मखाना डालकर सेवन करें। ऐसा लगातार करने से शरीर में जलन की समस्या से निजात मिल जाएगी।
  • दोस्तों, जिस प्राकार बहुत ज़्यादा नींद आने से हमारी सेहत पर बुरा असर पड़ता है उसी प्रकार नींद न आने से भी हम बीमार पड़ सकते हैं। अगर आप भी उन लोगों में से हैं जिन्हें बेहद कम नींद आने की परेशानी है तो आपको चाहिए कि आप मखाने का सेवन भरपूर मात्रा में करें। इससे आपकी ये समस्या दूर हो जाएगी।
  • दोस्तों, kidney की बीमारी बहुत ही ज़्यादा खतरनाक और जानलेवा साबित हो सकती है। किडनी की बीमारी से जूझ रहे मरीज को dialysis पर ही जिंदा रहना पड़ता है और इसका इलाज बहुत ही अधिक महंगा है। जिन लोगों को किडनी की किसी भी प्रकार की समस्या है तो ऐसे लोग मखाने का सेवन जरूर करें। इससे उनकी किडनी healthy रहेगी। मखाना खाने से किडनी की कार्य क्षमता बढ़ती है।
  • आज हर कोई बस पैसे के पीछे ही भाग रहा है। सुबह से लेकर शाम तक काम कर रहा है। आज किसी को भी अपनी सेहत की चिंता नहीं है। काम का stress लेना आज आम बात हो गई है। इसी तनाव को दूर करता है मखाना। बहुत सारी ऐसी research हुई हैं जिसमें पाया गया है कि मखाना हमारे तनाव को दूर करने में मददगार है। इसके लिए आप एक गिलास दूध लीजिए। उसमें कुछ मखाने डालकर पी जाइए। आपको जल्द ही तनाव से छुटकारा मिल जाएगा।
  • आम तौर पर आप में से बहुत से ऐसे लोग होंगे जिनका शरीर बहुत ही दुबला पतला है और शारीरिक रूप से कमजोर हैं। ऐसे लोग सभी के बीच जाने अनजाने हंसी का पात्र बन जाते हैं। इतना ही नहीं, ऐसे लोग कोई भी ज़्यादा बल प्रयोग वाला काम कर ही नहीं सकते हैं। अगर आपके साथ भी ऐसा है तो सावधान हो जाइए। तुरंत मखाने का सेवन करना शुरू कर दीजिए। अच्छा तो यही होगा कि आप इस समस्या से बचने के लिए मखाने के बीजों का प्रयोग करें।
  • जिन लोगों को heart से जुड़ी किसी भी तरह की बीमारी है, उनका दर्द सिर्फ वही लोग समझ सकते हैं जिन पर बीत रही है। कब और कैसे और किस उम्र के लोगों को heart की बीमारी होगी यह कहना थोड़ा मुश्किल है। आपने सुना ही होगा ‘prevention is better than cure’। heart की किसी भी प्रकार की बीमारी से बचने के लिए आपको चाहिए कि आप मखाना जितना ज़्यादा हो सके उतना ज़्यादा खाएं। अगर आपके शरीर में खून की कमी है तो वो भी मखाना खाने से दूर हो जाएगी। आपको Heart Attack का खतरा भी नहीं रहेगा।
  • जो लोग Blood Pressure की समस्या से लड़ रहे हैं उनके लिए भी मखाने का सेवन करना beneficial हो सकता है। आज हर दूसरे व्यक्ति को Blood Pressure की समस्या हो रही है। अगर आपको भी इस problem का solution चाहिए तो मखाने को अपनी diet में शामिल करना होगा। इसके दो फायदे होंगे। एक तो आपकी सेहत ठीक होगी। दूसरा आपकी जेब की सेहत भी ठीक रहेगी। यानी आप अगर मखाने का सेवन रोज़ करते हैं तो आपको बाजार से महंगी-महंगी दवाइयों पर पैसा waste करने की जरूरत नहीं है। मखाने में potassium और sodium की पर्याप्त मात्रा होती है। इससे हमारा रक्त संचार दुरुस्त रहता है।
  • बुजुर्गों में एक समस्या common हो चुकी है। इनमें बढ़ती उम्र के कारण और पोषक तत्वों के अभाव में calcium नहीं मिल पाता। यही कारण है कि बुजुर्गों की bones कमजोर हो जाती हैं और उनके दांत भी हिलने लगते हैं। अगर बुजुर्गों को मखाने का सेवन करने के लिए दिया जाए तो उनकी हड्डियां और दांत दोनों मजबूत रहेंगे।
  • Friends, आज के दौर में हम junk food का रुख कर रहे हैं। यही कारण है कि उम्र चाहे बचपन की हो या फिर 55 की, हर उम्र में कमजोर पाचन की शिकायत होने लगी है। इससे लोगों को विभिन्न प्रकार की बीमारियां घेर लेती हैं। इस कारण हमारे शरीर में खाना एकत्रित होने लगता है और शरीर के हर हिस्से पर मोटापे की परत चढ़ ताजी है। मखाना खाने से यह समस्या अपने आप दूर हो जाती है।
  • जो लोग अपना वनज कम करना चाहते हैं उन्हें भी regularly मखाना खाना चाहिए। मखाना खाने से हमारी बाॅडी energy से भर जाती है। हमें limit से ज़्यादा भूख नहीं लगती है। मखाने में प्रचुर मात्रा में protein और high fiber होता है। ये तत्व हमारी बाॅडी से bad fat को कम करने में मदद करते हैं।
  • जरा सोच कर देखिए। अगर हमारे शरीर में vitamin और minerals की कमी हो जाए तो क्या हम स्वस्थ रह पाएंगे? बिलकुल नहीं। हमारी बाॅडी में इन तत्वों का होना बेहद जरूरी है। इनसे हमें बीमारियों को दूर रखने में मदद मिलती है। ये सभी जरूरी vitamin और minerals मखाने में पाए जाते हैं। ये vitamin से भरपूर होते हैं। इसलिए ये हमारे लिए लाभदायक है।

मखाना और शहद के फायदे (Benefits of Fox Nut and Honey)

  • दोस्तों, जब हम दिन भर काम करते हैं तो थक जाते हैं। ऐसे में हमें और ज़्यादा भूख लगती है। हम इस समय जो भी मिले वो खा लेते हैं। ये भी नहीं देखते कि जो चीज़ हम खा रहे हैं वो हमारे लिए healthy है भी या नहीं। फिर कई सारी बीमारियां हमें घेर लेती हैं। इससे बचने के लिए आप रोज़ शहद और मखाने का सेवन करें। 
  • अगर आप शहद के साथ मखाने का सेवन करते हैं तो मसूढ़ों से खून निकलने की शिकायत दूर हो सकती है।
  • इसके अलावा बढ़ती उम्र और अनियमित खान-पान होने के कारण हमारे चेहरे पर झुर्रियां (Wrinkles) पड़ने लगती हैं। इसलिए ऐसे लोग जो झुर्रियों से परेशान हैं उन्हें शहद और मखाने का एक साथ सेवन जरूर करना चाहिए।

अब जान लीजिए दूध और मखाने के फायदे:

  • अगर आप वनज कम करना चाहते हैं तो मखाने को गर्म दूध में मिलाकर उसका सेवन करें। आपको कुछ ही दिनों में फर्क महसूस होने लगेगा।
  • दूध में मखाना मिलाकर रात के समय इसका सेवन करने से आपको अच्छी और गहरी नींद आती है।
  • अगर आपको Diabetes है तो आप दूध में मखाना डालकर खाएं। आपका शुगर लेवल काफी control रहेगा।

मखाने से होने वाले नुकसान

  • ज़्यादा मखाना खाने से allergy प्रतिक्रिया पैदा हो सकती है।
  • अगर आप पहले से ही किसी रोग की दवाई ले रहे हैं तो मखाना खाने से पहले जरूरी है कि आप अपने doctor से suggestion लें।
  • ऐसे मधुमेय रोगी जो पहले से ही इंसुलिन पर हैं उन्हें मखाने खाने से पहले doctor से जरूर पूछना चाहिए। नहीं तो इसके गंभीर परिणाम हो सकते हैं।
  • मखाने का ज़्यादा सेवन करने से कुछ लोगों के पेट में गैस और अफारा जैसी शिकायत भी होने लगती है।

निष्कर्ष : (Conclusion)

तो दोस्तों। आज के इस लेख में आप ने जाना कि मखाना खाने के क्या फायदे और नुकसान हैं। मखानों की शुरूआत कहां से, कब और कैसे हुई थी। भारत में सबसे ज़्यादा मखाने की खेती कहां होती है इसकी भी आपको जानकारी मिली। इसके अलावा आपने ये भी जाना कि मखाने को दूध और शदह में मिलाकर लेने से किन-किन रोगों से बचा जा सकता है। आशा है हमारा ये लेख आपको पसंद आया होगा।

Previous अंजीर खाने के फायदे और अंजीर- किशमिश के सेवन करने के फायदे|Anjeer Khane Ke Fayde
Next दालचीनी क्या है ? इसके प्रकार और फायदे। Daalchini Kya Hai