पीलिया क्या है ? और पीलिया के विभिन्न प्रकार के बारे में जाने। Jaundice


पीलिया

नमस्कार दोस्तों| आज हम आपसे बात करने वाले हैं एक खतरनाक बीमारी के बारे में| इस बीमारी का नाम है पीलिया| दोस्तों, पीलिया बहुत ही गंभीर बीमारी है| अगर समय रहते इसका इलाज नहीं किया गया तो मरीज की जान भी जा सकती है| अगर वास्तव में देखा जाए तो पीलिया कोई बीमारी नहीं है| पीलिया अपने आप में लक्षण है जो किसी अंदरूनी बीमारी के बारे में हमें सूचित करता है|

अगर आपके किसी अपने को पीलिया है तो उसे तुरंत ही doctor के पास ले जाए ना की झाड़फूंक वाले बाबा के पास| वो कहावत तो आपने सुनी ही होगी ‘नीम हकीम ख़तरा ए जान’| चलिए हम आपको आज detail में समझाते हैं की पीलिया असल में है क्या? शायद ही आप में से कुछ लोगों को ये पता हो कि पीलिया को पांडू रोग, कमड़ो या फिर कामला रोग भी कह दिया जाता है|

पीलिया क्या है ?

दोस्तों, पीलिया को हम english में Jaundice कहते हैं| जब हमारी body में bilirubin नामक pigment की मात्रा जरूरत से ज्यादा बढ़ जाती है तो इसे ही आम भाषा में पीलिया कह दिया जाता है| जिस व्यक्ति को पीलिया हो जाता है उसकी skin और आँखों में पीलापन आ जाता है|

पीलिया के कारण :

दोस्तों, पीलिया होने के दो मुख्य कारण हो सकते हैं| पहला है liver के कारण और दूसरा है liver के बाहर के कारण जैसे cancer और gallbladder stone आते हैं| अगर हम लीवर की बात करें तो आम भाषा में पीलिया को कहते हैं वायरल हेपेटाइटिस| 

जब भी हम दूषित द्रव्य या गंदा पानी पी लेते हैं तो हमें वायरल हेपेटाइटिस होने का खतरा बढ़ जाता है| पीलिया की शिकायत बच्चों में अधिक देखने को मिलती है| इसके अलावा पीलिया बड़ों को भी एक या दो बार हो जाता है| अगर आप दूषित पानी पीते हैं तो आपको hapititis a और hapititis b दोनों ही हो सकते हैं| ऐसा इसलिए कयूंकी दूषित पानी में virus हो सकता है जो आपको infection भी दे सकता है| ख़राब पानी पीने से आपको एक से दो महीने में ही पीलिया के लक्षण दिखने शुरू हो जाते हैं|

चलिए दोस्तों, अब हम आपको बताते हैं कि पीलिया के कौन कौन से लक्षण हो सकते हैं|

पीलिया के लक्षण :

Piliya ke lakshan
  • पीलिया होने पर शरीर और आंखें पीली होने लगती है|
  • रोगी को उल्टी होने लगती है|
  • रोगी को मितली आने लग जाती है|
  • इसके साथ ही रोगी को बुखार आना भी एक लक्षण है|
  • ऐसी condition में body में itching होने लगती है|
  • रोगी का urine भी पीला हो जाता है|
  • पेट में दर्द की शिकायत अकसर रहती है|
  • रोगी को सिर में दर्द बना रहता है|
  • रोगी के शरीर में कमजोरी आने लगती है|
  • उसका वजन कम होने लगता है|
  • शरीर में लगातार जलन सी बनी रहती है|

Jaundice के कुछ अन्य कारण :

  • अगर किसी को काफी दिनों तक मलेरिया है तो उसे Jaundice हो सकता है|
  • आपकी बॉडी में acidity बढ़ जाने से भी Jaundice का खतरा रहता है|
  • जो लोग अधिक मात्रा में दवा का सेवन करते हैं उन्हें भी Jaundice हो सकता है|
  • किसी को anemia की बीमारी है तो संभव है की उसे Jaundice हो जाए|
  • तीखे पदार्थ का सेवन करने से भी Jaundice हो सकता है|
  • Thalassemia से भी Jaundice होने के chances हैं|
  • आपके लिवर में किसी प्रकार का घाव हो गया है तो भी पीलिया हो सकता है|
  • गिल्बर्ट सिंड्रोम भी काफी हद तक Jaundice के लिए जिम्मेदार होता है|
  • जो लोग ज्यादा शराब पीते हैं उन्हें भी Jaundice हो जाता है|
  • पित्ताशय की पथरी से भी Jaundice हो सकता है|

Jaundice से बचाव :

दोस्तों अगर आप चाहते हैं की आपको Jaundice न हो और आप हमेशा स्वस्थ रहें तो आपको हमारे द्वारा बताई गई टिप्स फॉलो करनी होंगी जो इस प्रकार हैं : –

  • अगर आपको Jaundice हो गया है तो आप अपने cholesterol को सबसे पहले कम करने की कोशिश करें|
  • मरीज को चाहिए की वो जितना ज्यादा हो सके उतना ज्यादा धूप सकें| ज्यादा देर अंदर न रहें|
  • अगर आप Jaundice को जल्दी से ठीक करना चाहते हैं तो इस दौरान शराब से दूरी बनाएं|
  • Jaundice होने पर आपको चाहिए की आप time के हिसाब से अच्छी diet लें|
  • आपको अगर Jaundice हो गया है तो आप गर्म पानी से नहाएं|
  • कोशिश करें कि वहां न जाएं जहां तेज़ हवा चल रही हो|
  • नहाने के बाद बॉडी सुखाएं और थोड़ी देर दूप सकें|

Jaundice के घरेलु उपाय :

दोस्तों अगर आपको Jaundice हो गया है तो आप महंगी दवा लेने से अच्छा घरेलू उपचार से ठीक होने की कोशिश करें| चलिए नजर डालते हैं Jaundice के घरेलू उपचार कौन कौन से हैं|

  • अगर आप आंवले का सेवन करेंगे तो आपका Jaundice जल्दी ठीक हो जाएगा|
  • जौ powder को खाने से भी Jaundice की समस्या दूर हो जाती है|
  • आप अगर जॉन्डिस बेरी का इस्तेमाल करेंगे तो वो भी फायदेमंद रहेगा|
  • करेला खाने में भले ही कड़वा होता हो लेकिन Jaundice को ख़त्म करने में कारगर है|
  • आपको जल्दी ही Jaundice से छुटकारा चाहिए तो टमाटर के रस का सेवन करें|
  • नींबू के रस का सेवन करने से भी Jaundice में तुरंत आराम मिल जाता है|

Jaundice में करे जाने वाले परहेज :

दोस्तों अगर आपको Jaundice हो गया है तो कुछ खाने पीने की चीज़ों से आपको परहेज़ करना पड़ेगा| Jaundice के मरीजों को ऐसा खाना बिलकुल नहीं खाना है जो आसानी से न पचे या जिसे पचाने में शरीर को काफी ज्यादा मेहनत करनी पड़े| आपको ज्यादा मसालेदार नमकीन और तले हुए भोजन को bycot करना है| केवल तब तक, जब तक आप ठीक नहीं हो जाते| आपको Jaundice है तो आप शराब का सेवन बिलकुल न करें| साथ ही ऐसा भोजन भी ना खाएं जिसमें काफी अधिक मात्रा में कार्बोहायड्रेट हो|

शिलाजीत के सेवन से जुड़े फायदे जाने।

Jaundice में क्या खाएं :

दोस्तों अब बात कर लेते हैं की Jaundice में आपको क्या खाना चाहिए| 

Jaundice के मरीज को हल्का पदार्थ का सेवन करना चाहिए जो आसानी से पच जाए|

Jaundice के मरीज को ऐसी हरी सब्जी का रस पीना चाहिए जो स्वाद में बहुत ही कड़वा हो| इसमें नंबर वन पर आता है करेला| साथ ही आपको कोशिश करनी चाहिए की आप मूली के रस का भी सेवन करें| इससे भी आपको Jaundice से काफी हद तक और बहुत ही जल्दी आराम मिल जाएगा| अगर पीलिया के मरीज छाछ और नारियल पानी का सेवन करेंगे तो और भी अच्छा रहेगा| आपको daily गेहूं, अंगूर, किशमिश, बादाम तथा इलाइची जैसे पदार्थ खाने चाहिए| इससे आपको जल्दी ही benefit मिलेगा|

Jaundice के प्रकार :

दोस्तों, एक नजर Jaundice के प्रकार पर भी डाल लेते हैं| Jaundice तीन प्रकार के होते हैं :-

Hepatocellular Jaundice : 

जब किसी इंसान को चोट लगती है या फिर उसका liver ख़राब हो जाता है तो उसे hepatocellular Jaundice हो जाता है| जब हमे चोट लगती है तो लाल रक्त कोशिकाएं काफी मात्रा में dead हो जाती हैं जिससे पीलिया का खतरा रहता है| आपको चाहिए की चोट लगे तो समय समय पर doctor से checkup करवाएं की कहीं Jaundice के लक्षण तो नहीं आ रहे|

Hemolytic Jaundice : 

दोस्तों, जब हमारे शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं की कमी हो जाती है तो हमें Hemolytic Jaundice होता है|

Obstructive Jaundice :

साथियों, जब भी किसी इंसान की पित्त नली में रुकावट होने लगती है तो उसे Obstructive Jaundice होने का खतरा बढ़ जाता है| क्यूंकि पित्ते की नली में रुकावट के कारण शरीर में bilrubin ज्यादा हो जाता है और बहार जा ही नहीं पाता है|

निष्कर्ष : (Conclusion)

दोस्तों, आज हमने अपने इस post में आपको Jaundice से जुड़ी हर प्रकार की जानकारी दी| आप ने आज जाना की Jaundice होने पर आपको किन किन बातों का ध्यान रखना होता है| पीलिया से बचाव, पीलिया के लक्षण और कारणों पर भी हमने चर्चा की| ऐसी ही और जानकारी पाने के लिए बने रहिए हमारे साथ| नमस्कार|

Previous कुलथी दाल से जुड़े 9 फायदे जाने| Horse Gram
Next अरबी के सेवन से जुड़े 9 लाभदायक फायदे जाने (Colocasia)