हल्दी से जुड़े फायदे और नुकसान जाने।Haldi Se Jude Fayde Aur Nuksaan


हल्दी के फायदे

हल्दी बेशक ढाई अक्षर का शब्द हो लेकिन इसमें ताकत बेहद ज्यादा है| हल्दी एक ऐसी उपयोगी औषधी है जो कई सारी बीमारियों को जड़ से ख़त्म कर देती है| हल्दी को इतना शुभ माना जाता है कि बहुत सारे festivals में भी हल्दी का इस्तेमाल किया जाता है| यहाँ तक की शादी से पहले हल्दी की रस्म भी होती है| पूजा के समय भी हल्दी का प्रयोग किया जाता है|

हल्दी में antibacterial गुण भी पाए जाते हैं| आज हम आपको इसी हल्दी के फायदे के बारे में बताने जा रहे हैं| हल्दी के बारे में हम आपको फुल detail में बताने वाले हैं| इसलिए आपके जो भी important काम हों सब पहले ही ख़त्म कर लें| क्योकि आपको ये article इतना पसंद आने वाला है की आप इसे न सिर्फ पढ़ेंगे बल्कि शेयर भी करेंगे| चलिए शुरू करते हैं|

Table of Contents

महत्वपूर्ण मसाला है हल्दी

दोस्तों, भारतीय रसोई के एक महत्वपूर्ण मसाले के रूप में हल्दी को स्थान दिया जाता है| इसमें पाए जाने वाले औषधीय गुणों की बात करें तो इसकी सूची बहुत लम्बी है| शायद ही ऐसी कोई भारतीय रसोई होगी जहां पर हल्दी का राज न हो| हर व्यंजन में हल्दी डाली जाती है ताकि खाने का ज़ायका और भी बढ़ जाए साथ ही खाने की रंगत भी| कोई सब्जी बने और उसमें हल्दी न पड़े ऐसा तो हो ही नहीं सकता| प्राचीन काल से ही एक औषधीय जड़ी-बूटी के रूप में हल्दी का इस्तेमाल होता आ रहा है|

अगर किसी को हल्की या गंभीर चोट लग जाए तो सबसे पहले उसके जख्म पर हल्दी का लेप लगाया जाता है| इसके बाद उसे हल्दी वाला दूध दिया जाता है| ताकि उसका दर्द कुछ कम हो सके| हल्दी इतनी लाभकारी है की कई वर्षों से बड़े बड़े वैज्ञानिक हल्दी पर research कर रहे हैं|

हल्दी की प्रजातियां :

Haldi ki prajatiya

दोस्तों आज हम आपको ये भी बताने वाले हैं की हल्दी की कितनी प्रजातियां प्रचलित हैं? क्योंकि बहुत से लोग इस बात से अपरिचित हैं कि भारत में केवल एक नहीं बल्कि करीब चार प्रकार की हल्दी की प्रजातियां मौजूद हैं| आइए इनपर एक नजर डालते हैं|

Curcuma Longa

दोस्तों, इस प्रजाति की हल्दी का use mainly औषधि और मसाले के रूप में किया जाता है| बात करें इसके पौधे की तो ये 60 से 90 cm तक ऊँचे हो सकते हैं| इस प्रजाति की हल्दी के रंग को ध्यान से देखें तो पीले के साथ लाल रंग भी दिखाई देगा| ज्यादातर घरों में सब्जी बनाते समय इसी हल्दी का उपयोग किया जाता है|

Curcuma Aromatica

दोस्तों इस प्रकार की हल्दी को जंगली हल्दी भी कहते हैं| ये बहुत मुश्किल से प्राप्त होती है|

Curcuma Amada

आपको ये जानकर यकीन नहीं होगा दोस्तों, की इस हल्दी के पत्तों और कंद में आम और कपूर जैसी महक आती रहती है| यही कारण है की इसे आमाहल्दी (mango ginger) भी कह दिया जाता है|

Curcuma Caisea

Friends, ये एक प्रकार की काली हल्दी होती है| ऐसा यकीन से तो नहीं कहा जा सकता लेकिन कुछ लोगों का मानना है कि इस हल्दी में चमत्कारी गुण पाए जाते हैं| शायद इसी कारण से इस हल्दी को ज्योतिष और तंत्र विद्या में ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है|

विभिन्न भाषाओं में हल्दी के नाम

हिन्दी भाषा में हल्दी को हर्दी, हलदी और हल्दी कहा जाता है| English Language में हल्दी को कहते हैं Turmeric|,संस्कृत में हल्दी को पीता, रंजनी, गौरी और हरती कहा जाता है| बंगाली भाषा में हल्दी को कहते हैं हल्दू और पितरस कहते हैं| आसामी भाषा में हल्दी को हलादि कहा जाता है| Punjabi भाषा में हल्दी को कहते हैं हलदर|

हल्दी के फायदे 

हल्दी के फायदे इतने हैं की आप इन्हें जानकर हैरान रह जाएंगे|

Haldi Ke Fayde

फुंसी से हल्दी दिलाए राहत

हल्दी के फायदे फुंसी में भी मिल सकते हैं| ऐसा बहुत बार देखा गया है की गर्मी के मौसम में लोगों को सिर में छोटे-छोटे दाने निकल आते हैं| इन्हे हम फुंसी भी कहते हैं| हमारे सिर में तेज़ खुजली और जलन का कारण भी यही होते हैं| ऐसे में हल्दी का सेवन करना आपके लिए best option हो सकता है| इसके लिए आपको करना बस इतना है कि हल्दी और दारूहरिद्रा, चन्दन, त्रिफला, नीम, भूनिम्ब को पीस लें और इससे रोज़ सिर पर अच्छी तरह से मालिश करें| आपको तुरंत राहत मिल जाएगी|

आँखों के दर्द से राहत दिलाए हल्दी

Friends, अगर आपको आँखों के दर्द से तुरंत आराम चाहिए तो आप हल्दी का इस्तेमाल जरूर करें| इसके लिए आप एक ग्राम हल्दी को 25 मिलीग्राम पानी में उबाल लें और फिर उबालने के बाद उसे छान लें| अब थोड़ी धोड़ी देर में इसे आँखों में डालते रहें| आपको बहुत ही जल्द आराम मिल जाएगा| इसके अलावा अगर आपकी आँखों में किसी भी प्रकार का संक्रमण यानी infection हो गया है तो उसे भी हल्दी ठीक कर देगी|

कान बहने से रोकने में हल्दी है बेहतरीन

दोस्तों, कई बार अलग-अलग कारणों से कान से तरल पदार्थ निकलता रहता है| इसी को कुछ लोग आम बोलचाल की भाषा में कान बहना भी कह देते हैं| इससे आराम पाना चाहते हैं तो हल्दी को पानी में उबाल लें और फिर छान कर उसे कान में डालें| कान बहना बंद हो जाएगा|

पायरिया में हल्दी के फायदे

Friends, हल्दी में कुछ ऐसे तत्व पाए जाते हैं जो की पायरिया को ठीक करने में मददगार साबित होते हैं| पायरिया मसूड़ों से सम्बंधित एक बीमारी है| इसे ठीक करने के लिए आप सरसों के तेल में हल्दी मिलाएं और सुबह शाम मसूड़ों की अच्छे प्रकार से मालिश करें| इसके बाद आप अगर गर्म पानी से कुल्ला करेंगे तो मसूड़ों से सम्बंधित किसी भी प्रकार की समस्या क्यों न हो तुरंत दूर हो जाएगी|

गले की खराश से हल्दी दिलाये छुटकारा

मित्रों, बहुत बार ऐसा देखा गया है कि मौसम में बदलाव के कारण या फिर किसी भी वजह से गले में खराश सी होने लगती है| अगर आपके साथ भी ऐसा हो रहा है तो आप हल्दी के साथ यक्षवार, अजमोदा तथा चित्रक के 2 से 5 ग्राम चूर्ण को शहद के साथ मिलाकर सेवन करें| इससे आपके गले की खराश कुछ ही दिनों में बिलकुल समाप्त हो जाएगी|

पेट दर्द में हल्दी के फायदे

जिन लोगों को पेट में अचानक दर्द होने लगता है उनके लिए हल्दी रामबाण का काम करती है| जब भी पेट दर्द हो तो उससे राहत पाने के लिए 10 ग्राम हल्दी को 250 मिलीलीटर पानी में उबाल लें| इसमें गुड़ मिलाकर धीरे धीरे पीएं| आपका पेट दर्द गायब हो जाएगा|

बवासीर को रोकने में हल्दी के फायदे

दोस्तों, जैसा की आप जानते हैं, इन दिनों healthy फ़ूड की जगह जंक food ने ले ली है| यही कारण है की लोगों को कब्ज़ की शिकायत रहने लगी है| यकीन मानिए, यही कब्ज़ आगे चलकर बवासीर का रूप ले लेती है| इस घातक बीमारी को ठीक करने में भी हल्दी कारगर है| इसके लिए आप सरसों के तेल में हल्दी चूर्ण को मिला लें और प्रभावित स्थान पर लगाएं| आपकी piles की समस्या से बहुत जल्द आराम मिल जाएगा|

खांसी दूर करने में हल्दी के फायदे

जिन लोगों को लम्बे समय से खांसी है और ठीक होने का नाम नहीं ले रही है तो वो लोग हल्दी का जादू देख सकते हैं| हल्दी में ऐसे प्रभावशाली गुण पाए जाते हैं जो खांसी को जड़ से ख़त्म कर देते हैं और वो भी बहुत ही जल्द| इसके लिए आपको करना सिर्फ इतना है की सबसे पहले आप हल्दी को भून कर चूर्ण बना लें| इसके बाद करीब एक से दो ग्राम हल्दी में शहद मिलाकर इसका सेवन करें| आप चाहें तो हल्दी चूर्ण में घी मिलाकर भी इसका इस्तेमाल कर सकते हैं|

पीलिया के इलाज में हल्दी फायदेमंद

दोस्तों, पीलिया एक ऐसी बीमारी है जिसका अगर इलाज सही ढंग से और सही समय पर न कराया जाए तो ये गंभीर रूप ले लेती है| यहाँ तक की पीलिया के कारण मरीज की जान तक चली जाती है | हल्दी के फायदे पीलिया को जड़ से खत्म करने में भी मिलेंगे| बड़ों के मुकाबले छोटे बच्चे पीलिया का शिकार ज्यादा होते हैं| जिसे पीलिया की शिकायत है उन्हें 6 ग्राम हल्दी के चूर्ण को मठ्ठे में मिलाकर दिन में दो बार खाना चाहिए| ऐसा करने से करीब 4 से 5 दिन में ही पीलिया ठीक हो जाएगा| इसके अतिरिक्त आप एक काम और भी कर सकते हैं| आप पांच से दस ग्राम हल्दी चूर्ण में पचास gram दही (Curd) मिलाकर खाएं| इससे भी आपका पीलिया रोग चला जाएगा| या फिर आप चाहें तो हरड़, लौहभस्म और हल्दी को बराबर मात्रा में मिलाएं| इसके बाद इसे 375 mg मात्रा में शहद या फिर घी के साथ मिलाकर खाएं| पीलिया से आपको तब भी जल्द लाभ मिल जाएगा|

मधुमेह में हल्दी के फायदे

Friends, हल्दी के फायदे आपको मधुमेह या diabetes के रोग में भी देखने को मिलेंगे| जैसा की आप सब जानते हैं| मधुमेह एक खतरनाक बीमारी है| इसे हल्दी के सेवन से ठीक किया जा सकता है| आपको करना बस इतना है कि दो से पांच ग्राम हल्दी चूर्ण लेना है| उसमें शहद तथा आंवला रस मिला लें| अब सुबह और शाम इसे इसी मात्रा में खाएं| आपको बहुत ही जल्द इस बीमारी से हमेशा के लिए छुटकारा मिल जाएगा|

स्तन संबंधी रोगों में हल्दी के फायदे

बहुत बार महिलाओं और युवतियों को विभिन्न कारणों से स्तन से सम्बन्धित कई रोग हो जाते हैं| किसी भी प्रकार के Breast disease से निपटने के लिए आप हल्दी का सहारा ले सकती हैं| इसके लिए आप हल्दी और लोध्र को घिस लें और उसका लेप अपने स्तनों पर लगाएं| आपको स्तन सम्बन्धी रोगों से छुटकारा मिल जाएगा।

ल्यूकोरिया के मरीजों के लिए हल्दी फायदेमंद

दोस्तों, अगर आप ल्यूकोरिया रोग से पीड़ित हैं तो ल्यूकोरिया में हल्दी के फायदे आपको देखने को मिलेंगे| आप हल्दी चूर्ण तथा गुग्गुल चूर्ण दोनों को एक बराबर मात्रा में मिला लें| इसके बाद इसके 2 से 5 ग्राम की quantity का सेवन दिन में दो बार लगातार कुछ दिनों तक करें| आपकी ये बीमारी झट से दूर हो जाएगी|

हल्दी के नुकसान

Friends हल्दी के फायदे तो हमने आपको बता दिए| लेकिन अब हम बताने वाले हैं की ज्यादा मात्रा में हल्दी का सेवन करने से आपको क्या नुकसान हो सकते हैं|

Haldi Ke Nuksaan

पेट संबंधी समस्याएं

दोस्तों, जैसा की आप जानते हैं हल्दी सेहत के लिए कितनी ज्यादा लाभकारी होती है| लेकिन आपको ये बात भी जाननी चाहिए की हल्दी की तासीर गर्म होती है| हल्दी का ज्यादा सेवन अगर आप करते हैं तो आपके पेट में जलन की समस्या भी हो सकती है या फिर पेट में सूजन और ऐंठन की शिकायत भी हो सकती है|

हल्दी से हो सकती है पथरी

मित्रों, हल्दी को अधिक मात्रा में सेवन करने से हल्दी के फायदे नहीं नुकसान झेलने पड़ते हैं| आपको किडनी में पथरी की समस्या हो सकती है| हल्दी के कारण शरीर में ऑक्सलेट calcium को घोलने की बजाए उसे बाँधने लगता है जिससे पथरी की दिक्कत हो जाती है| इसलिए जब भी आप हल्दी का सेवन करें तो इस बात का ख़ास ध्यान रखें कि हल्दी का सीमित मात्रा में ही सेवन करें|

उल्टी तथा दस्त लगना

एक research में वैज्ञानिकों ने पाया है कि जो लोग हल्दी का अधिक मात्रा में सेवन करते हैं उन लोगों को बहुत बार उल्टी और दस्त की शिकायत हो जाती है| क्योंकि इसका main reason है हल्दी ज्यादा खाने से आपका पाचन तंत्र बिगड़ जाता है और आपको ये problems होने लगती हैं|

शरीर में आयरन को घुलने से रोके हल्दी

Iron की सही मात्रा हमारे शरीर में होना बेहद आवश्यक है| जब आप हल्दी ज्यादा खाएंगे तो वो आपके शरीर में आयरन को घुलने नहीं देगी| जिससे आपको बहुत सी गंभीर बीमारियां हो सकती हैं| यहाँ तक की घेंघा का शिकार भी आप हो सकते हैं| इसलिए अगर आपको iron की कमी है तो आप हल्दी का ज्यादा इस्तेमाल न करें|

निष्कर्ष (Conclusion)

Turmeric के फायदे के बारे में आज आपको हमने विस्तार से बता दिया है| इसके साथ ही आपको हमने हल्दी के प्रकार के बारे में भी जानकारी दी| इतना ही नहीं, हमने आपको हल्दी के नुकसान के बारे में भी अच्छे से समझाया है| अगर आप अपनी त्वचा को गोरा बनाना चाहते हैं तो आप हमारे आर्टिकल Multani Mitti को जरूर पढ़ें| अगर आपको पीलिया के बारे में जानना हो तो आप हमारी website पर detail में पढ़ सकते हैं| या फिर अगर आप जानना चाहते हैं कि केसर के फायदे और नुकसान क्या हैं तो हमारे इस article को ध्यान से पढ़ें| आपसे एक और important health tip को discuss करने हम फिरसे हाजिर होंगे आपके बीच| तब तक के लिए स्वस्थ रहिए, मस्त रहिए और हमारे articles पढ़ते रहिए|

Previous जानिये Protinex क्या है? और Protinex Powder Benefits हिंदी में
Next 7 Best Sikkim Tourist Places to Visit in All Seasons