एसिडिटी के मुख्य कारण और इससे बचाव के लिए अपनाये जाने वाले 4 उपचार | Acidity


एसिडिटी

नमस्कार दोस्तों। आज हम आपके लिए एक नई जानकारी लेकर आए हैं। आज हम आपको बताएंगे कि एसिडिटी क्या होती है? इसके लक्षण क्या हैं? एसिडिटी का इलाज कैसे कर सकते हैं? किन कारणों से हमें ऐसिडिटी होती है इसके बारे में भी हम जानेंगे। आइए सबसे पहले जान लेते हैं कि ऐसिडिटी होती क्या है?

एसिडिटी क्या होती है? (What is acidity)

दोस्तों, जब भी हम कोई खाना खाते हैं या कोई तरल पदार्थ पीते हैं तो वह हमारे पेट में जाकर इकठ्ठा हो जाता है। हमारे पेट में एक पाचन तंत्र (digestive system) होता है जो हमारे पेट में गए हुए भोजन को पचाने का काम करता है। पाचन तंत्र हमारे खाने को पचाने के लिए एक विशेष प्रकार का एसिड यानी अम्ल बनाता है। 

अगर इस एसिड की मात्रा ठीक है तो हमें कोई दिक्कत नहीं होती। लेकिन जब हमारे पेट में खाने को पचाने के लिए एसिड ज़्यादा बनने लगता है तो वो एसिडिटी हो जाती है।

ये Article भी जरूर पढ़े-: खुबानी

एसिडिटी का कारण:

1. खान-पान पर ध्यान न देने से।

2. बाजार में मिलने वाले तीखे और चटपटे खाने के कारण भी एसिडिटी की समस्या हो सकती है।

3. कई बार देखा गया है कि नशे और धूम्रपान के कारण भी एसिडिटी होती है।

4. वक्त पर अगर हम खाना नहीं खाएंगे तो भी एसिडिटी हो जाती है।

5. खाली पेट चाय पीने से भी एसिडिटी बन जाती है।

6. जो लोग अकसर tea या coffee का अधिक मात्रा में सेवन करते हैं उन्हें भी एसिडिटी की समस्या बनी     रहती है।

7. शरीर में बहुत अधिक गर्मी होने से भी एसिडिटी हो सकती है।

8. मोटापा (Obesity) भी एसिडिटी को बढ़ाने का एक बड़ा कारण होता है।

9. प्रेगनेंसी में ऐसे Hormones Produce होते हैं जो एसिडिटी को बढ़ाते हैं।

10. कोल्ड्रिंक या सोडा युक्त कोई भी पेय पदार्थ पीने से एसिडिटी बनती है।

11. अलग-अलग तरह के सॉफ्ट और एनर्जी ड्रिंक्स भी एसिडिटी बनाती हैं।

12. बाजार में मिलने वाली तली चीज़ों जैसे फिंगरचिप्स, पकौड़े आदि भी हमारे शरीर में एसिडिटी को बढ़ाने का कारण होता है।

13. कई बार Non Vegetarian food item खाने से भी एसिडिटी हो जाती है।

14. घी और रिफाइन्ड ऑयल का अधिक मात्रा में इस्तेमाल भी शरीर में एसिडिटी को प्रोमोट कर देता है।

15. शारीरिक या मानसिक तनाव में भी एसिडिटी हो जाती है।

16. अगर हम प्रॉपर नींद नहीं लेंगे तो भी हमारी बॉडी में एसिडिटी बढ़ेगी।

17. रात में देर से सोना भी एसिडिटी का कारण हो सकता है।

18. आजकल कोई भी अपने स्वास्थ्य की ओर ध्यान नहीं देता है। Exercise न करने के कारण भी हमें एसिडिटी का शिकार होना पड़ता है।

19. कई बार बीना डॉक्टर की सलाह लिए अपने मन से ही दवाएं लेते रहने के कारण भी शरीर में एसिडिटी की समस्या हो जाती हैै।

20. अधिक मात्रा में फास्ट फूड खाने से भी एसिडिटी हो जाती है।

21. बाजार में मिलने वाली चटपटी चाट आपकी जीभ को तो ललचाती है लेकिन आपकी एसिडिटी को भी बढ़ा देती है।

22. अगर आप खाना खाकर तुरंत लेट जाते हैं तो भी एसिडिटी बन जाती है।

23. अगर आपने एक साथ काफी ज़्यादा खाना खा लिया है तो भी आपको एसिडिटी की शिकायत हो सकती है।

24. अगर कोई एक वक्त का खाना खाने के बाद दूसरे वक्त का खाना खाने में बहुत ज़्यादा गैप दे देता है तो वह भी एसिडिटी का कारण है।

25. जो लोग ज़्यादा देर तक फास्टिंग करते हैं उन्हें भी एसिडिटी का सामना करना पड़ सकता है।

26. अगर आप बहुत ज़्यादा नमक वाली चीज़ो को खा रहे हैं तो भी आपको एसिडिटी होगी।

चलिए अब आपको बताते हैं कि एसिडिटी के लक्षणों को आप कैसे पहचान सकते हैं।

एसिडिटी के लक्षण:

1. जिस भी व्यक्ति को एसिडिटी की समस्या हो जाती है तो उसे बहुत बार खट्टी और कड़वी डकारें आने लगती हैं।

2. ऐसीडिटी का शिकार हुए व्यक्ति को काफी ज़्यादा घबराहट महसूस होगी।

3. उनके सिर में लगातार दर्द की समस्या भी बनी रहेगी।

4. ऐसे लोग जो एसिडिटी का शिकार हैं उन्हें पेट में गैस भी बन जाती है।

5. खाली उबाक आते रहना भी एसिडिटी के लक्षण हैं।

6. एसिडिटी के लक्षणों में vomiting आना भी शामिल है।

7. एसिडिटी के मरीज को कब्ज (constipation) की समस्या भी हो जाती है।

8. गले में लंबे समय से दर्द बने रहने से एसिडिटी हो सकती है।

9. गले में खराश होना या आवाज़ भारी होना भी एसिडिटी करता है।

10. निगलने में दर्द महसूस होना।

11. अकारण ही आपका वजन घट जाना एसिडिटी के लक्षण हैं।

12. छाती या उससे ऊपर के हिस्से में जलन होना भी इसका कारण है।

13. एसिडिटी के कारण दांतों की परत को भी नुकसान पहुंचता है।

14. सांसों की बदबू भी इसका एक प्रमुख लक्षण हो सकता है।

15. इसके अलावा अगर आपका मल काले रंग का है या उसमें से खून निकलने लगा है तो समझ जाइए कि आपको एसिडिटी की प्रॉबलम है।

16. अगर आपको लगातार हिचकी आ रही है तो आप एसिडिटी का शिकार हो सकते हैं।

17. आपको अगर लगातार कुछ भी खाने का मन नहीं करता तो वो भी एसिडिटी के लक्षणों में ही गिना जाता है।

18. शरीर और पेट में भारीपन लगना भी एसिडिटी के लक्षण हो सकते हैं।

19. अगर आप बिना कोई काम किए खुद को थका हुआ सा महसूस करने लगें तो इसका इशारा भी एसिडिटी की ही तरफ है।

20. अगर आप बार बार कोई बात या कोई काम करना भूल जाते हैं तो हो सकता है कि आपकी बॉडी का एसिडिटी बढ़ा हुआ हो।

21. अगर आपके शरीर में कुछ स्किन प्रॉबलम्स हैं जैसे कि स्किन में खुजली रहना, स्किन में जलन महसूस होना आदि एसिडिटी के लक्षण हैं।

22. एसिडिटी के लक्षण अस्थमा भी कुछ मायने में हो सकता है।

23. कई बार आपका खाया हुआ खाना भी बैक हो जाता है जो एसिडिटी का लक्षण है।

24. जिन लोगों को एसिडिटी होती है उनके जीभ के पीछे की तरफ थोड़ा कड़वापन लगने लगता है।

25. दांतों की सेंसिटिविटी बढ़ने का भी कारण होता है एसिडिटी।

26. जिन लोगों को एसिडिटी होती है उन्हें रोज सुबह उठने पर सूखी खांसी सी महसूस होने लगती है।

27. एसिडिटी के लक्षणों में छाती में जलन या दर्द को भी शामिल किया जाता है।

एसिडिटी का उपचार

चलिए अब जान लेते हैं कि खान-पान में आप किन बदलावों को करके एसिडिटी से बच सकते हैं और फिट रह सकते हैं।

1. आपको अगर एसिडिटी की शिकायत है तो बेहतर है कि आप गेहूं की बजाए जौ और गेहूं के आटे को मिक्स करके उसकी रोटी खाएं।

2. आपको एसिडिटी होती है तो चाय या कॉफी पीने से बचें।

3. आपको तले हुआ खाना बहुत कम मात्रा में लेना है।

4. साधारण नमक की बजाए आप सेंधा नमक लीजिए।

एसिडिटी को कम करने वाले फल

अगर आपको एसिडिटी की शिकायत रहती है तो आप तीन फलों को अपनी डाइट में जरूर शामिल करें। इनमें हैं आंवला, मीठा अनार और नींबू। ये तीनों ही फल एसिडिटी को कम करने में मदद करते हैं।

कड़वी सब्जियां (Bitter Vegetables)

आपको एसिडिटी की प्रॉबलम होती है तो आप कड़वी सब्जियों का प्रयोग अधिक से अधिक करें जैसे कि करेला, परवल आदि।

लाइफ स्टाइल में बदलाव (Change in Lifestyle)

दोस्तों, अगर हम एसिडिटी से छुटकारा पाना चाहते हैं तो हमें कुछ बातों पर ध्यान देना होगा जो हमारे लाइफ स्टाइल से संबंधित हैं। आप अगर सही खाना भी खा रहे हैं लेकिन अगर उसे सही समय पर नहीं खा रहे हैं तो भी वो एसिडिटी बनाएगा। 

आप proper time पर खाना खाएं। इसके अलावा दो time के खाने में कम से कम 6 घंटे का अंतर तो जरूर रखें। आपको खाना खाने के तुरंत बाद सोना नहीं है। अपने भोजन में आप solid और liquid दोनों तरह के आहार का सेवन करें। पहले आप सॉलिड खाना खाएं और फिर लिक्विड। अगर आप चाहते हैं कि आपकी एसिडिटी न बने तो आप खाने को कभी भी पेट भर कर न खाएं। जितनी भूख है उससे थोड़ा खाना कम खाएं।

निष्कर्ष: (Conclusion)

तो दोस्तों, आज आपने जाना कि एसिडिटी क्या होती है? इसके कारण और लक्षणों के बारे में भी हमने आपको विस्तार से बताया। साथ ही आपको ये भी बताया कि एसिडिटी की समस्या को दूर करने के लिए आप किन-किन चीज़ों में बदलाव करें और अपने खान-पान में क्या बदलाव करें ये भी आप ने जाना। आपसे फिर होगी मुलाकात एक नई जानकारी के साथ। हमारा आर्टिकल पसंद आया हो तो आप इसे जरूर share करें।

Previous अश्वगंधा के फायदे, महिलाओं के लिए अश्वगंधा के फायदे |Ashwagandha Ke Fayde
Next काढ़ा के फायदे |Kadha Ke Fayde